गाया है लता ने। गीतायन पर खोजें

असल में

Kaash woh mere ban (forest) ke paas yun kabhi aate

suparna bhattacharya ने जैसा सुना/समझा
Kaash woh mere mann ke paas yun kabhi aate

बकौल suparna bhattacharya,
jo hum sun-na chahte hain, aksar wohi humein sunaai deta hai - is gaane ke sandarbh mein bhi aisa hi kuch huaa :)
मज़ेदार है!
3 और ने यही समझा - मैंने भी!


चर्चा

roasseSnape ने लिखा,

हाँ, सही ढंग से .

आपकी बात

आपका नाम

1 + 7 =


सर्वाधिकार सुरक्षित © 2005 विनय जैन