गाया है राशिद अली ने। लिखा है ए आर रहमान ने। गीतायन पर खोजें

असल में

सोच ज़रा गर जान तुझको हम कितना चाहते हैं

Viaa ने जैसा सुना/समझा
सोच ज़रा जाने जान तुझको हमें कितना जाते हैं

4 की पसंद - मेरी भी!
6 और ने यही समझा - मैंने भी!


चर्चा

आपकी बात

आपका नाम

8 + 1 =


सर्वाधिकार सुरक्षित © 2005 विनय जैन