गाया है दलेर मेंहदी ने। लिखा है प्रसून जोशी ने। गीतायन पर खोजें

असल में

थोड़ी सी धोंकने वाली धकधक धकधक धकधक साँसे

विनीत ने जैसा सुना/समझा
थोड़ी सी *धोंक निराली* धकधक धकधक धकधक साँसे

1 की पसंद - मेरी भी!
4 और ने यही समझा - मैंने भी!


चर्चा

Pavan Jha ने लिखा,

Vineet..
This is not "Roo-ba-roo" but the title song 'Rang de basanti'
Vinay ने लिखा,
You are right. Corrected.
Athereal _athena ने लिखा,
I used to think its..thodi si dhoop nirali.....

आपकी बात

आपका नाम

5 + 6 =


सर्वाधिकार सुरक्षित © 2005 विनय जैन