गीतायन पर खोजें

असल में

आन मिलो आन मिलो शाम साँवरे
बृज में अकेले राधे खोई खोई फिरे

अभिजित देवनाथ ने जैसा सुना/समझा
आन मिलो आन मिलो शाम साँवरे
Bridge में अकेले राधे खोई खोई फिरे

बकौल अभिजित देवनाथ,
And I used to wonder as a kid why she chose a bridge of all places.
1 की पसंद - मेरी भी!
अरे! मैंने भी यही समझा था!


चर्चा

आपकी बात

आपका नाम

5 + 6 =


सर्वाधिकार सुरक्षित © 2005 विनय जैन